सरदार वल्लभ भाई पटेल-biography

sardar patel

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म एवं शिक्षा

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर , सन् 1875 ई ० को गुजरात प्रान्त के करमसद नामक गाँव में हुआ था । पटेल का प्रारम्भिक जीवन अपने माता – पिता की देख – रेख में बीता । उनकी प्रारम्भिक शिक्षा अपने पिता द्वारा प्राप्त हुई । जब उनके पिता खेतों में जाते थे तो रास्ते में पटेल को पढ़ाते जाते थे । थोड़ी शिक्षा ग्रहण करने के बाद उनको स्कूल भेजा गया ।

सरदार पटेल के पिता एक साधारण किसान थे । वे काफी वीर एवं साहसी स्वभाव के थे । भारत की आजादी के आन्दोलन में उन्होंने बढ़ – चढ़कर भाग लिया था । जिससे उन्हें जेल भी जाना पड़ा । वे काफी स्वस्थ एवं बलशाली थे । सरदार पटेल के पिता के प्रभाव ने ही उन्हें अदम्य साहसी बनाया । पटेल ने अपने पिता से ही अपनी प्रतिभा का विकास किया तथा जीवन में हँसते हुए कष्टों को सह लेने की क्षमता सीखी । प्रारम्भ में वे काफी नटखट थे । अक्सर छात्रों एवं अध्यापकों से उनका झगड़ा हो जाता था । किन्तु वे विनम्र स्वभाव के थे । वे काफी तेज – तर्रार एवं हाजिर जवाव थे । उनके व्यंग एवं कटाक्ष के कारण अध्यापक उनसे चिढ़ जाया करते थे । वे काफी प्रतिभाशाली एवं मेधावी छात्र थे । नाडियाद में प्रारम्भिक शिक्षा ग्रहण करने के बाद वे बड़ौदा गये । वहाँ उनका एक अध्यापक से विवाद हो गया , फलस्वरूप वे पुनः नाड़ियाद वापस आ गये । वल्लभ भाई के घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी । हाईस्कूल तक उन्होंने बहुत परेशानी में पढ़ाई की । उसके बाद घर की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी । उन्हें आगे पढ़ने की इच्छा भी नहीं थी ।

sardar patel

आगे का सफर

मुख्तारी की परीक्षा पास करने के बाद वे गोधरा में मुख्तारी करने लगे । कुछ ही दिनों बाद उन्होंने बोरसद में वकालत शुरू कर दी । उनकी वकालत अच्छी चलने लगी । इससे पुलिस एवं अफसरों में उनका काफी आतंक , बन गया । साहस और धैर्य सरदार पटेल में कूट – कूट कर भरा था । एक बार वे कचहरी में एक मुकद्दमें की पैरवी कर रहे थे , तभी उन्हें अपनी wife की मृत्यु का समाचार मिला । किन्तु वे बिना विचलित हुए मुकद्दमें की पैरवी करते रहे । अब उनकी आर्थिक स्थिति सुधर चुकी थी । अतः अब वे इंग्लैण्ड जाकर वैरिस्टरी पास करने का विचार करने लगे । बाद में उन्होंने वहाँ जाकर कड़ा परिश्रम कर वैरिस्टरी की परीक्षा प्रथमश्रेणी में पास की । भारत लौटने पर उन्होंने अहमदाबाद में पुन : वकालत प्रारम्भ की । उन्होंने काफी धन कमाया ।

इस समय तक उनका मन राजनीति में नहीं लगता था । वह राजनीति को घृणा की दृष्टि से देखते थे । उन पर किसी नेता का कोई प्रभाव नहीं था । गोधरा में प्रान्तीय राजनीतिक सम्मेलन शुरू हुआ । इसके सभापति महात्मा गाँधी थे । इसमें सरदार पटेल को मंत्री चुना गया । यहीं से सरदार पटेल के राजनीतिक जीवन की शुरुआत हुई । इसके पश्चात् वे आजादी की लड़ाई में कूद पड़े । इस बीच गुजरात में बेगार प्रथा जोरों पर थी । इसको बन्द कराने हेतु उन्होंने बहुत संघर्ष किया । त्रिमंडल सन् 1910-20 में रौलट एक्ट तथा उसके बाद जलियांवाला बाग हत्याकांड हुआ । पूरे देश में विरोध की लहर दौड़ गयी । गाँधी जी ने असहयोग आन्दोलन शुरू कर दिया । इसी समय सरदार पटेल ने बैरिस्टरी छोड़ दी । उन्होंने अपने लड़के को इंग्लैण्ड पढ़ने के लिए भी नहीं भेजा । इन बातों से वल्लभ भाई त्याग की झलक मिलती है । महात्मा गाँधी को गिरफ्तार कर लिया गया । तब गुजरात के आन्दोलन का पूरा नेतृत्व सरदार पटेल कुशलता पूर्वक सम्भाला । यह आन्दोलन सफल रहा और सभी बन्दी कैदी रिहा कर दिये गये ।

इस बीच सरदार पटेल को अहमदाबाद नगर महापालिका का अध्यक्ष चुना गया । सन् 1927 में बारडोली के किसानों का लगान एकदम से 30 प्रतिशत बढ़ा दिया गया । जिसके विरोध में सरदार पटेल ने सत्याग्रह छेड़ दिया । बाद में सरकार ने उनकी माँगें मान लीं । अब सरदार पटेल पूरे देश के नेता बन चुके थे । लाहौर कांग्रेस में सन् 1929 में पूर्ण स्वतन्त्रता का प्रस्ताव रखा गया । सन् 1930 में गाँधी जी ने पुनः सत्याग्रहं शुरू किया । इसमें सरदार पटेल को तीन महीने की सजा हुई ।

अन्त में सरकार से समझौता होने पर उन्हें छोड़ा गया । सन् 1931 में करांची में कांग्रेस अधिवेशन में उन्हें कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गया । उसी समय सरकार की दमन नीति फिर शुरू हो गयी । अतः जनवरी 1932 में पुनः सत्याग्रह प्रारम्भ हो गया । वल्लभ भाई को फिर गिरफ्तार कर लिया गया । इस बार उन्हें दो वर्ष तक जेल में रहना पड़ा तथा सन् 1934 में जेल से बाहर आये । सन् 1935 में कांग्रेस ने कौंसिलों का चुनाव लड़ने का निर्णय लिया । इस चुनाव का संचालन सरदार पटेल को सौंपा गया । कांग्रेस को भारी सफलता मिली । कई प्रान्तों में कांग्रेस के मंत्रिमंडल का गठन हुआ । यह गठन भी सरदार पटेल की देख – रेख में हुआ । सन् 1939 में कांग्रेस मंत्रिमण्डलों ने इस्तीफा दे दिया । तब सरदार पटेल पुनः रचनात्मक कार्यों में जुट गये । सन् 1942 में “ अंग्रेजो भारत छोड़ो ” आन्दोलन शुरू हुआ , इसमें एक बार फिर सरदार पटेल को जेल जाना पड़ा । इन्हें अहमदनगर किले में बन्द किया गया ।

15 जून , 1945 को उन्हें छोड़ दिया गया । सन् 1946 के विधान सभा चुनावों में एक बार फिर सरदार पटेल ने कांग्रेस की चुनाव नीति का संचालन किया और कांग्रेस को भारी सफलता मिली । सन् 1947 में भारत स्वतन्त्र हो गया । तब एक अन्तरिम सरकार का गठन किया गया । सरदार पटेल को गृहमन्त्री बनाया गया ।

स्वतन्त्र भारत के सामने कई तत्कालिक कार्य थे । इनमें सबसे जरूरी था देश . रियासतों का एकीकरण | जूनागढ़ , हैदराबाद तथा जम्मू – कश्मीर में समस्या अधिक गम्भीर थी । वे पृथक राज्य की मांग कर रहे थे । राज्यों का विभाग सरदार पटेल के जिम्मे था । उन्होंने पूर्ण कुशलता से भारतीय संघ की स्थापना की । वे इस कार्य से इतिहास में प्रसिद्ध हो गये तथा उन्हें “ लौह पुरुष ‘ की संज्ञा दी गयी । इस बीच पाकिस्तान ने भारत पर आक्रमण करदिया । जिसको सरदार पटेल ने विफल कर दिया । सरदार पटेल निरन्तर कार्यशील रहे । उनका स्वास्थ्य गिरने लगा ।

15 दिसम्बर , 1950 को बम्बई के बिड़ला भवन में उनका निधन हो गया । इस प्रकार भारत को गहरा आघात लगा । कश्मीर या भारत के किसी प्रान्त में पृथकता की बात आती है तब सरदार पटेल की कमी महसूस होती है । क्योंकि सरदार पटेल जैसा व्यक्ति ही संगठन का कार्य पूर्ण कुशलता से कर सकता है । वह बहुत कम बोलने वाले गम्भीर व्यक्ति थे । वह परिश्रमी थे । उनमें साहस का वरदान था । वीरता उनकी निशानी थी । भारत के निर्माण तथा भारतीय गणराज्य की एकता में उनका योगदान आज भी उनकी कार्य कुशलता का बखान करता है । भारत के इतिहास में इस महापुरुष का नाम सदैव के लिए अमर हो गया । यह लौह – पुरुष आज भी संघर्ष करने की भावना के लिए हमारे लिए आदर्श है । यह देश सदैव उनको नमन करता रहेगा!

mynewradiant.com

अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आयी तो दोस्तों के साथ शेयर करे और सब्सक्राइब करे साथ ही साथ फॉलो करें हमारी पोस्ट को!

उम्मीद है आपको ये पोस्ट भी पसंद आयेंगीं

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.